कोरोना इफेक्ट: इस शख्स ने OLX पर बेच डाली ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ मूर्ती!

1 min read
OLX

देशभर में कोरोनावायरस की मार से देशवासी लॉकडाउन हैं। इस दौरान घर पर बैठे लोग खुद को एंटरटेन करने के लिए तरह तरह के विकल्प खोज रहे हैं। कोई अपना समय नेटफ्लिक्स और अमेज़ॉन प्राइम की सीरीज़ देख कर बिता रहा है तो कोई टिक-टॉक पर अलग-अलग चैलेंज के ज़रिए अपने स्किल्स दिखा रहा है। लेकिन देश में कुछ ऐसे लोग भी हैं जो अपनी हरकतों से बाज नहीं आ सकते। खबर आ रही है कि गुजरात के एक शख्स ने आव देखा न ताव, सीधा दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ती को ही बेच डाला। आईए जानते हैं क्या है पूरा मामला-

विज्ञापन में लिखी ये बात

आपको जानकार हैरानी होगी की गुजरात में एक शख्स ने दुनिया की सबसे विशालतम मूर्ती ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को “OLX” पर बेचने का विज्ञापन दे डाला। इतना ही नहीं शख्स ने बकायदा विज्ञापन में मूर्ती की कीमत लिखी है। शख्स ने मूर्ती की कीमत 30,000 करोड़ रुपये बताई है। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, शख्य ने विज्ञापन में लिखा था कि ”इमरजेंसी! स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को बेच रहे हैं क्योंकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अस्पताल और स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए पैसों की बहुत ज़रूरत है’।”

हालांकि इस पोस्ट के पब्लिश होने के कुछ घंटों बाद ही OLX ने हरकत लेते हुए इसे अपनी वेबसाइट से डिलीट किया। लेकिन यह पोस्ट तब तक कई अखबारों के पन्नों पर छप चुकी थी। मीडिया में इस पोस्ट के आने के बाद, पुलिस को सूचना मिली और वह तुरंत हरकत में आ गई। पुलिस शख्स की जांच करने में जुटी है।

OLX कंपनी की विज्ञापन जांच पर उठे सवाल

बता दें कि यह खबर मीडिया में आने के बाद, स्टैत्यू ऑफ यूनिटी के कमिश्नर नीलेश दुबे ने तुरंत इस घटना की जानकारी पुलिस को दी और शख्स के खिलाफ FIR दर्ज कराई। नीलेश दुबे ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस के ज़रिए साफ किया कि इस तरह की पोस्ट सरासर एक गंदा मज़ाक है, यह सरकार को बदनाम करने के उद्देश्य से किया गया है। शख्स ने गलत इरादे से भारत की पहचान ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अपमान करने की कोशिश की है।

इसे मज़ाक के नज़रिए से बिल्कुल नहीं देखा जाएगा। शख्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो चुकी है। साथ ही नीलेश ने OLX कंपनी की पब्लिशिग गाइडलाइन्स पर भी सवाल उठाए हैं। नीलेश ने कहा कि इस तरह की पोस्ट के पब्लिश होने से यह साबित होता है कि OLX पर किसी भी तरह के विज्ञापन की जांच किए बिना कंपनी उसे पब्लिश करने की अनुमति देती है। यह पूरी तरह से ग्राहकों के लिए गलत है क्योंकि ऐसे कोई भी अपने फेक पोस्ट से ग्राहकों को उल्लू बना सकता है।

शख्स के खिलाफ लगीं आईपीसी की ये धाराएं

बता दें कि पुलिस ने अज्ञात शख्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 505 (अफवाह फैलाने), धारा 417 (धोखाधड़ी), धारा 469 (जालसाजी) और अन्य संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज की है। पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

आपको बता देें कि देश को एकजुट रखने वाले वल्लभाई पटेल को समर्पित उनकी यह मूर्ती का उद्घाटन, प्रधानमंत्री मोदी ने 31 अक्टूबर 2018 को गुजरात के नर्मदा नदी केे तट पर किया था। बता दें कि यह दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी और सबसे ऊंची करीब 182 मीटर (597 फीट) ऊंची मूर्ती है। दुनियाभर के पर्यटक इसे देखने के लिए आते हैं। कोरोना के चलते लोगो की आवाजाही को 17 दिसंबर 2019 से बंद कर दिया गया था।

Translate »