Chaitra Navratri 2020: नवरात्रि के दौरान महिलाएं खासकर इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो पड़ेगा पछताना

1 min read
Chaitra Navratri

Chaitra Navratri 2020: नवरात्रि साल में मुख्य रूप से दो बार मनाया जाता है। एक वासंतिक नवरात्रि और दूसरा शारदीय नवरात्रि। इस बार चैत्र नवरात्रि यानी वासंतिक नवरात्रि का प्रारंभ 25 मार्च दिन बुधवार से शुरू हो चुका हैं। हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक चैत्र मास के शुक्ल पक्ष से ही हिन्दू नववर्ष का प्रारंभ होता है। मगर इस बार की Chaitra Navratri पर भी कोरोना का असर पड़ता हुआ दिख रहा हैं। क्योंकि इस खतरनाक वारयस की वजह लोग इस बार देशभर के मंदिर बंद हैं, ऐसे में लोग अपने-अपने घरों में माता की आराधना कर रहे हैं।

 

चैत्र नवरात्रि पर इन बातों का रखें ध्यान

– जो लोग चैत्र नवरात्रि के दौरान नौ दिन तक का व्रत रखते हैं, उन्हें सात्विक भोजन करना चाहिए
– ऐसे में लोगों को मांसाहारी,लहसुन, प्याज का सेवन नहीं होता हैं
– नौ दिन तक का व्रत रखने वाले व्यक्ति को खाने में अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए
– पुराण के मुताबिक नवरात्रि व्रत के समय दिन में नहीं सोना चाहिए

 

 

– जो महिलाएं नौ दिन तक फ़ास्ट रखती हैं, उन्हें मेकअप का सामान यूज़ नहीं करना होता है, वहीं पुरुषों को भी दाढ़ी-मूछ वा बाल नहीं कटवाने चाहिए
– ऐसा मानना हैं कि कलश स्थापना के बाद घर को खाली नहीं छोडऩा चाहिए और कभी भी भूलकर दरवाज़ा नहीं बंद करना चाहिए
– वहीं व्रत के दौरान महिलाएं और पुरुषों को शारिरिक संबंध बनाने से दूर रहना चाहिए, क्योंकि ऐसे में उन्हें माता का प्रसाद नहीं मिलता हैं
– नौ दिनों के व्रत रखने वाले लोगों को बेल्ट, चप्पल-जूते, बैग जैसी चमड़े की चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए

View this post on Instagram

Yummy Mutton keema Curry😊#goats#groundedgoat#nonveg#currygoat #mutton #curryrice #curryloverv#keemacurry#muttonkeemacurry foodbloggerhyderabad #foodbloggerhyderabads #indianfoodblogger #foodblogger #hyderabadirecipes #hyderabadrecipes #indianfood #hyderabadfood #hyderabadfoodie #hyderabadfoodblogger #hyderabadfoodblogger #hyderabadfooddiaries #hyderabadfoodiesclub #hyderabadfoodscene #hyderabadfoodlovers #hyderabadfoodtruck #hyderabadfoodblog

A post shared by @ aromahomekitchen on

 

नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की उपासना की जाती है,शास्त्रों में देवी के 9 रूपों का बखान इन श्लोकों द्वारा किया गया है।

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।

तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति. चतुर्थकम्।।

पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।

सप्तमं कालरात्रीति.महागौरीति चाष्टमम्।।

नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गा: प्रकीर्तिता:।

उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना:।।

Translate »