अंतरिक्ष से पृथ्वी में गिरी इन 3 चीजों के बारें में शायद नहीं जानते होंगे आप

1 min read

दोस्तों इस बात से हम सब वाकिफ हैं कि हमारा अंतरिक्ष काफी बड़ा है और अंतरिक्ष में बहुत सारे सौरमंडल भी हैं। अंतरिक्ष से आए दिन रोजाना कोई न कोई चीज धरती पर गिरती रहती हैं। कुछ चीजें तो पृथ्वी तक पहुंच पाती हैं परंतु कुछ चीजें रस्ते में ही यानी कि धरती और अंतरिक्ष के बीच में ही जलकर खाक हो जाती है। आज के इस पोस्ट के अंदर हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि अंतरिक्ष से पृथ्वी पर गिरी थी।

 

डायमंड (उल्कापिंड हीरा )
प सबने उल्कापिंड का नाम तो सुना ही होगा। 2008 में एक उल्कापिंड सूडान के न्यू बीएन रेगिस्तान में आकर गिरा था। जब वैज्ञानिकों ने ट्रैक किया तो उन्हें यह उल्कापिंड मिल गया। परंतु उन्होंने इसका नाम अब अल्माहाटा सिट्टासकता रख दिया है। जब उन्होंने इसे देखा तो यह साधारण पत्थरों की तरह दिख रहा था। परंतु बाद में अध्ययन करने के बाद वैज्ञानिकों को पता चला कि यह साधारण पत्थर (3 things that fell from space into the Earth) तो है ही परंतु उसके साथ बहुत सारी चीजें भी मौजूद है। और पूरी जांच के बाद  इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इसके अंदर हीरा भी मिला हुआ है। यह हीरा अंतरिक्ष में बने थे। जो कि पृथ्वी पर आकर गिर गए। इसमें से कुछ ऐसे हैं जो की बहुत ही बड़े थे।

प सबने उल्कापिंड का नाम तो सुना ही होगा। 2008 में एक उल्कापिंड सूडान के न्यू बीएन रेगिस्तान में आकर गिरा था। जब वैज्ञानिकों ने ट्रैक किया तो उन्हें यह उल्कापिंड मिल गया। परंतु उन्होंने इसका नाम अब अल्माहाटा सिट्टासकता रख दिया है। जब उन्होंने इसे देखा तो यह साधारण पत्थरों की तरह दिख रहा था। परंतु बाद में अध्ययन करने के बाद वैज्ञानिकों को पता चला कि यह साधारण पत्थर तो है ही परंतु उसके साथ बहुत सारी चीजें भी मौजूद है। और पूरी जांच के बाद  इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि इसके अंदर हीरा भी मिला हुआ है। यह हीरा अंतरिक्ष में बने थे। जो कि पृथ्वी पर आकर गिर गए। इसमें से कुछ ऐसे हैं जो की बहुत ही बड़े थे।

वैज्ञानिकों ने बताया कि यह हीरा इसलिए नीचे आकर गिरा क्योंकि वहां पर उल्कापिंड आपस में टकराए थे। जिसके कारण ये हीरे बने थे और यह बहुत ही कीमती है। यह हीरे बहुत ही दुर्लभ है। क्योंकि यह हीरे पृथ्वी के नहीं बल्कि अंतरिक्ष के हैं।

सैटेलाइट

नासा का एक सेटेलाइट जिसका नाम डीआरएमएन था वह अप्रैल 2015 में पृथ्वी के रेनफॉल पेटर्न के स्टडी के लिए अंतरिक्ष में भेजा गया था। 2015 में उसने अपने 20 साल पूरे कर लिए थे। 1977 में लांच किया गया था। कहते हैं कि इस सेटेलाइट का वजन 3 टन था। पर अचानक ही 16 जून को सुबह के समय वह अनकंट्रोल हो गया। जिसकी वजह से वह पृथ्वी पर आ गिरा और अभी भी उसके जलते हुए टुकड़े आप (3 things that fell from space into the Earth) दक्षिणी हिंद महासागर में देख सकते हैं। यह यान पूरी तरह से नहीं जला है। आधा जला हुआ टुकड़ा इसका महासागर के अंदर समा गया है। करीबन पीआरएमसी एकलौता सेटेलाइट नहीं है जो कि अंतरिक्ष से पृथ्वी पर आ गिरा। इससे पहले भी एक सेटेलाइट यू आर ए एस एस का था। जो कि 2011 में सितंबर में पृथ्वी पर आ गिरा था।

रॉकेट फ्यूल टैंक
स्पेन के मरसिया में दो चौराहों को एक बहुत ही अजीब सी दिखने वाली वस्तु प्राप्त हुई। जब उन्होंने सबसे पहले उसे देखा तो उसका आकार देखकर उन्हें ऐसा लगा कि वह मिलिट्री से संबंधित कोई वस्तु होगी। जिस वजह से वहां पर सनसनी फैल गई। अपने नियमों का उल्लंघन ना करते हुए स्पेन ने सबसे पहले उसे रेडियो एक्टिव भी समझा। पर बाद में उन्होंने अच्छे से उसका निरीक्षण किया तो पता चला कि वह रॉकेट फ्यूल टैंक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »