दुनिया की सबसे महंगी पेंटिंग 5380 करोड़, क्या है इसके महंगे होने का राज ?

1 min read
मोनालिसा की पेंटिंग

दुनिया भर में एक पेंटिंग ऐसी है जो बहुत ही मशहूर है और वह पेंटिंग का नाम है मोनालिसा की पेंटिंग। जिसको लियोनार्डो दा वेंचि ने बनाया था। इनका जन्म इटली में 15 अप्रैल 1400 में हुआ था और यह मात्र 41 वर्ष की उम्र में उन्होंने इस पेंटिंग को बनाना शुरू किया था। अभी पेंटिंग (दुनिया की सबसे महंगी पेंटिंग) पूरी भी नहीं हुई थी की उनका देहांत 1519 में हो गया। इस पेंटिंग को बनाने में उन्हें करीबन 16 साल लगे थे।

यह पेंटिंग मोनालिसा के नाम से मशहूर है परंतु इस पेंटिंग का असली नाम MONNALISA  नहीं बल्कि MONNA LISA  है जिसका मतलब इटली में माय लेडी होता है।

मोनालिसा की पेंटिंग

पेंटिंग की कुछ महत्वपूर्ण बातें:-

1‌. देखने में ऐसा लगता है कि यह पेंटिंग किसी कागज पर बनाई गई है या फिर प्लास्टिक पर बनाई गई होगी। परंतु ऐसा नहीं है बल्कि यह पेंटिंग एक लकड़ी पर बनाई गई है जिसे आजकल स्केटबोर्ड बनाने में उपयोग किया जाता है ।

‌2. इस पेंटिंग को बनाने में एक खास तरह के पेंट का इस्तेमाल किया गया है और जिस पेन का इस्तेमाल किया गया है उसकी मोटाई 40 माइक्रोमीटर है। यानी कि एक बाल से भी पतले पेंट का इस्तेमाल किया गया है।

3. ‌ अगर आप इस पेंटिंग को दूर से किसी भी कोने से देखते हैं तो आपको ऐसा लगेगा कि मोनालिसा  मुस्कुरा रही है और खास बात यह है कि किसी भी कोने से देखें आपको ऐसा लगेगा कि मोनालिसा आप को ही देख रही है।

‌4. अगर आप चारों कोनों से मोनालिसा को देखेंगे तो हर कोने से आपको मोनालिसा की मुस्कुराहट बदलती हुई नजर आएगी।

5. ‌ जिस तरह से मोनालिसा को दूर से देखने पर वह मुस्कुराती हुई नजर आती है वहीं अगर आप उसको  बिल्कुल नजदीक जाकर उसकी होठों पर नजर डालें तो आपको मोनालिसा उदास दिखाई देगी।

6. 14 दिसंबर 1962 में जब मोनालिसा की पेंटिंग की कीमत लगाई गई तब वह 680 करोड की थी। परंतु आजकल मोनालिसा की पेंटिंग 5380 करोड़ की हो गई है।

7. कुछ खोजकर्ता ने तो यहां तक बताया गया है कि पेंटिंग के अंदर तीन परत बनाई गई है हर एक परत में अलग-अलग इंसान के चेहरे छुपे हुए हैं। यानी कि मोनालिसा की पेंटिंग के अंदर अलग-अलग इंसानो का चेहरा छुपा हुआ है। कुछ लोग तो यह भी कहते हैं कि मोनालिसा की पेंटिंग के अंदर एलियन छुपा हुआ है परंतु असली बात क्या है इसकी पुष्टि अभी तक नहीं हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »