मूवी थिएटर के 4 ऐसे रहस्य जो केवल कुछ लोग ही जानते हैं

1 min read

फिल्म देखने का शौक किसे नहीं होता है। हर कोई किसी ना किसी तरह की फिल्म को पसंद करता है। किसी को लव फिल्म पसंद आती है किसी को थ्रिलर फिल्म पसंद आती है, किसी को ऐक्शन मूवी पसंद आती है। किसी को कॉमेडी मूवी पसंद आती है और मूवी देखने का मजा तो तब आता है जब हम थिएटर में बड़े से वॉल पर टीवी देखते हैं। आज हम ऐसे चार रहस्य बताने जा रहे हैं जिसे सुनने के बाद आप भी हैरान हो जाएंगे जैसे कि हम सोचते हैं कि में हमेशा सिनेमाघरों की कुर्सी लाल क्यों होती है हमेशा पॉपकॉर्न ही यहां खाने को क्यों मिलता है। बगैरा बगैरा के प्रश्न के उत्तर लेकर हम आपके पास आए हैं

1. मूवी थिएटरों में लाल सीटों का रहस्य

जब हम मूवी थिएटर में जाते हैं तो वहां पर मंद रोशनी हो जाती हैं जिसकी वजह से लाल रंग की कुर्सियां लगने पर वह चमकीली दिखाई देती है और कुर्सियां साफ नजर आती हैं वहीं अगर नीले रंग की कुर्सी लगाई जाए तो वह कुर्सी वहां की रोशनी से मेल खा जाएगी और हमें वहां की कुर्सियां नजर नहीं आएगी

2. पॉपकॉर्न हमेशा ताजा नहीं बेचा जाता है

आपको जानकर हैरानी होगी की मूवी हाल में ज्यादातर पॉपकॉर्न ही मिलता है वह ऐसा इसलिए क्योंकि पॉपकॉर्न एक ऐसी चीज है जो सबसे ज्यादा बिकती है और बच जाने पर इसे डिब्बे में पैक करके रख दिया जाता है। बस लोगों के आने पर इसे मशीनों में गर्म किया जाता है और फिर बेच दिया जाता है।

3. अपने भोजन के साथ फिल्मों में जाना आपका अधिकार है
जब भी हम सिनेमाघरों में जाते हैं तो वहां पर पहले ही हमारे बैग में रखी खाने वाली चीजों को निकलवा दिया जाता है। परंतु यह किसी भी तरह का कानूनी आधार नहीं है अगर आप चाहे तो पानी की बोतल या फिर खाने का पदार्थ बैग में अंदर ले जा सकते हैं।

4. ईयर फोन का इस्तेमाल

सबसे हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि जब हम सिनेमाघरों में जाते हैं तो लोग वहां की फिल्में देखकर कई बार सीटियां बजाते हैं या तो तालियां बजाते हैं जिसकी वजह से ध्वनि प्रदूषण होता है। पर अगर आप चाहते हैं कि आपको सिर्फ सिनेमा घर में लगी फिल्म की आवाज ही आए तो आप कान में इयरफोन लगा ले। इससे आपको सिर्फ फिल्म की ही आवाज सुनाई देगी हालांकि यह आश्चर्यजनक है परंतु कभी भी आप ट्राई करके देख सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »