Let's Explore the World

स्टॉक मार्केट से कम पैसों में भी पा सकते हैं अधिक लाभ, करना होगा बस ये काम

1 min read
share market investment

share market investment

Share Market Investment: शेयर का मतलब होता है हिस्सा, और शेयर बाजार उस बाज़ार को कहते हैं। जहां आप शेयर्स की बिक्री और खरीद कर सकते हैं। आजकल की बढ़ती महंगाई में हर इंसान एक ऐसा विकल्प खोजता है।जहां उसे अधिक से अधिक मुनाफा मिले।

इसलिए कम समय में ज्यादा पैसों कमाने का रिस्क लेने के लिए लोग शेयर बाजार में निवेश करते हैं। ये लोग शेयर बाज़ार में निवेश करके किसी कंपनी के शेयर्स खरीदते हैं। भविष्य में अगर कंपनी की ग्रोथ अच्छी चलती है तो कंपनी के शेयर्स भी बढ़ते हैं। जिससे साफ तात्पर्य है कि यदि किसी ने इस कंपनी के शेयर्स खरीदे होते हैं तो उसे मुनाफा होता है।

अगर आप भी शेयर मार्केट में निवेश करके पैसा कमाना चाहते हैं। लेकिन आप पैसा डूबने से या डरते हैं तो इस लेख में आप जानेंगे शेयर मार्केट में कैसे इंवेस्ट करना चाहिए। साथ ही हम आपको बताएंगे कि अगर आपके पास बेहद कम पैसे हैं तो भी आप कैसे शेयर मार्केट में निवेश (share market investment) करके पैसा कमा सकते हैं।

क्या होता है शेयर मार्केट? (Share Market Investing)

शेयर मार्केट किसी सूचीबद्ध कंपनी में हिस्सेदारी खरीदने या बेचने की जगह है। बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) नाम के दो प्रमुख शेयर बाजार हैं। दोनों में ही किसी सूचीबद्ध कंपनी के शेयर किसी ब्रोकर के माध्यम से खरीदे और बेचे जाते हैं।

स्टॉक मार्केट में ऐसे करें निवेश करने की शुरुआत (tips of share marketing in hindi)

  1. शेयर बाज़ार (Share Market Investing) में निवेश करने वाले इच्छुक लोग सबसे पहले अपना डीमैट अकाउंट खुलवा लें।
  2. इसके बाद आपको अपने डीमैट अकाउंट को बैंक से लिंक करवाना होगा।
  3. अब बैंक अकाउंट से आप अपने डीमैट अकाउंट में उतने रुपए ट्रांसफर करें।
  4. जितने का आप निवेश करना चाहते हैं।
  5. अब आप ब्रोकर की वेबसाइट से लॉग इन करें।
  6. या उसे ऑर्डर देकर अपनी सिलेक्ट की हुई कंपनी के शेयर खरीद लीजिए।
  7. खरीदे हुए शेयर्स आपके डीमैट अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएंगे।
  8. आप जब चाहें इन शेयर्स को ब्रोकर की माध्यम से ही बेच सकेंगे।

कम पैसों से ऐसे करें शेयर बाज़ार में निवेश (Share Marketing Investment for Beginners)

  1. ऐसा ज़रूरी नहीं कि शेयर बाज़ार में निवेश करने के लिए आपके पास बहुत पैसा हो। या आप ज्यादा पैसों का ही निवेश कर सकते हैं। बल्कि आप कम पैसों से भी शेयर मार्केटिंग में निवेश कर सकते हैं। अगर आप शुरूआत में रिस्क लेना चाहते हैं, लेकिन नुकसान से डरते हैं तो आप कम पैसों में निवेश की शुरूआत कर सकते हैं। आप 500 से 5 हज़ार रुपए का छोटा निवेश करके भी पैसा कमा सकते हैं।
  2. डे-ट्रेडिंग (Throw Day trading)

डे ट्रेडिंग के ज़रिए भी आप कम पैसे निवेश करके मुनाफा कमा सकते हैं। डे ट्रेडिंग में सुबह पैसा लगाकर शाम तक कमाई की जा सकती है। इस ट्रेडिंग में शेयर की कीमत का 20 से 30 फीसदी हिस्सा सुबह निवेशक को लगाना पड़ता है। शाम तक मुनाफे के साथ शेयर्स में लगाया गया पैसा वापस मिल सकता है। हालांकि इसमें आपको नुकसान होने का डर भी बना रह सकता है।

3. न्यूनतम राशि (Minimum amount share)

आपकी न्यूनतम राशि इस बात पर निर्भर करती है कि आप जिस कंपनी के शेयर खरीद रहे हैं उसकी चालू बाज़ार में कीमत क्या है। और उस शेयर के कितने ट्रेडिंग लॉट के शेयर शामिल हैं।

4. पैनी स्टॉक के पीछे न भागें (Penny stocks)

शेयर बाज़ार में निवेश करते वक्त कुछ लोग कम पैैसों में निवेश करते हैं। कम पैसों में निवेश हो रहा होता है तो लोग ज्यादा से ज्यादा शेयर्स खरीदने की होड़ में एक-एक रुपए वाले स्टॉक्स खरीद लेते हैं। जिनसे मुनाफा कमाने में बेहद समय लगता है। इन सस्ते शेयर्स को पैनी स्टॉक्स कहते हैं। आप भले ही कम पैसों में एक या दस शेयर्स खरीदें, लेकिन अपना कम पैसा भी सोच समझकर उस शेयर पर निवेश करें जिसमें ग्रोथ के चांस लगते हों।

5. ट्रेडिंग लॉट (Trading lot)

शेयर का ट्रेडिंग लॉट किसी भी शेयर कि निर्धारित न्यूनतम संख्या होती है। इसी पर इन शेयरों की खरीद औ बिक्री आधारित होती है। आपको बता देें कि उस शेयर की ट्रेडिंग उसी लॉट या उसके गुनकों में की जा सकती है जिनमें वे खरीदे गए हों।

6. ज्यादा कीमत वाले शेयर (High rated shares)

जैसे आपको पैनी स्टॉक्स के बारे में ऊपर बताया गया है, ठीक इसके विपरित आप अधिक कीमत वाले शेयर खरीदने का रिस्क लें। इसमें ग्रोथ की संभावना ज्यादा होती है तभी इसकी कीमत अधिक होती है। शेयर के EPS, PE रेश्यो को अच्छी तरह समझें। कंपनी के शेयर के पिछले साल के रिकॉर्ड्स को चेक करें।

7. अतिरिक्त फंड या लिमिटेड फंड (Limited Fund)

निवेशकों को सिर्फ अतिरिक्त फंड का ही निवेश करना चाहिए। शेयर की अस्थिरता के कारण छोटी अवधि में वैल्यू घट सकती है। इसके लिए लॉन्ग टर्म शेयर में निवेश करें। हालांकि इसकी ग्रोथ कंपनी की ग्रोथ पर निर्भर करती है। लिमिटेड फंड में जहां फायदा 10 गुना बढ़ जाता है वहीं इसका भारी नुकसान भी चुकाना पड़ता है। इसलिए लिमिटेड फंड लेने से पहले रिस्क लेने के लिए सज रहें।

कैसे होगी इन सब से कमाई? (stock marketing)

  • भेड़चाल में न चलें और किसी की बातों में न आएं।
  • शेयर बाज़ार उस शांत दिखने वाले सुमद्र जैसा है जिसमें नाव में बैठा निवेशक आने वाली तेज़ लहर को भाप नहीं पाता।
  • शेयर बाज़ार में मुनाफा कमाना मुश्किल काम है लेकिन नामुमकिन नहीं है। इसके लिए आपको चाहिए सटीक रणनीति और अनुभवी ब्रोकर।
  • कई बार बड़ी से बड़ी रणनीति भी फेल हो सकती है।
  • कोरोनावायरस के कारण वैसे भी शेयर बाज़ार को काफी मार पड़ी है। इस साल शेयर बाज़ार ( stock marketing) की कीमतों में अधिक घाटा हुआ है।
  • ऐसी स्थिति में हमारी यह सलाह है कि आप एक सही और दूरदर्शी रणनीति का ही चयन करें।
  • शेयर बाज़ार में निवेश (Share Market Investment) लंबी अवधि के लिए किया जाए तो अच्छा है।
  • बाज़ार में कुछ पैसे बचाने भी आपका मुनाफा कहलाएगा।
  • यदि आपको लगता हैै कि किसी कंपनी की ग्रोथ होगी या नहीं तो उसमें निवेश भी मत करें।
  • उन्हीं कंपनियों के शेयर खरीदें जिन पर आपको पूरा भरोसा हो।